Sony Liv Chalo Koi baat Nahi Episode 4 "Sports" Recap & Reviews | KapilDevIsHere

Chalo Koi Baat Nahi Episode 4

लड़की वालों का परिवार लड़के देखने पहुंचते हैं जहां लड़के से पुछने पर पता लगता है कि वह‌ एक sportsperson है; यानी कि वह एक खिलाड़ी हैं जो टेबल टेनिस खेलता है। लड़के ने टेबल टेनिस चैंपियनशिप में काफी सारे medals जीते हैं, लड़के के पेरेंट्स लड़की वालों को लड़के के table tennis की preschool से लेकर world championship में जीते दर्जनों medals दिखा देते हैं लेकिन शायद लड़की वालों को उसके medals पर कोई दिलचस्पी नहीं है और वह वहां से निकलने तैयारी करते हैं।  लेकिन‌ जैसे वह जाने के लिए उठते हैं उन्हें पता चलता है कि लड़का Railway में ticket collector की नौकरी पर हैं। तुरंत माहौल बदल जाता, जस्बात बदल जाते है, लड़की वालों को लड़का पसंद आ जाता हैं और शादी पक्की हो जाती हैं। कुछ नही तो कम से कम इससे एक चीज तो समझ में आ गई कि आप sports में कितने ही बड़े तीसमारखाँ क्यों न हो अगर आपके पास कोई गवर्मेंट जॉब नही है तो शादी के लिए आपको लड़की नही मिलेगी।


हमारे society में दहेज लेना‌/देना एक अपराध माना जाता है लेकिन लडकी‌ वालो का एक सरकारी जॉब करने वाला लड़का ढूंढना और लड़के की salary के आधार पर भेदभाव करना कोई अपराध नहीं है। यह कुछ नाइंसाफी सी लग रही हैं या फिर कुछ भेदभाव जैसा महसूस हो रहा है।  एक अच्छे लड़के के अपनी बेटी की शादी करना बुरा नही है लेकिन अगर दहेज़ भी पैसो से संबंधित है और सैलरी भी पैसों से ही संबंधित है। इसलिए अगर किसी लड़के का दहेज के लिए लड़की से शादी करना अगर अपराध है, तो सैलरी के लिए किसी लड़की का लड़के से शादी करना भी अपराध होना चाहिए? 


Sony Liv Chalo Koi baat Nahi Episode 4 "Sports" 

India में sports का बहुत ही‌‌ बुरा हाल है कोई भी cricket को छोड़कर किसी sports को‌ भाव हि‌नहि देता है।‌ हर किसी को cricket team के हर एक खिलाड़ी का नाम या होगा लेकिन अगर उनसे Indian Hockey team और Football Team से किसी एक बन्दे का नाम पूछा जाए तो घंटों भर सर खूजाते रह जाएंगे लेकिन ज़्यादा से ज़्यादा सिर्फ एक ही खिलाड़ी का नाम बता पाएंगे। मुझे भी फुटबॉल और हॉकी खिलाड़ियों की टीम में से सिर्फ एक ही खिलाड़ी का नाम पता हैं और वो है Sunil‌ Chetri और Rani Rampal; दोनों ही team captain है और इसलिए शायद मुझे याद रह गए। 

इस एपिसोड में हमें यह बताएं जाने की कोशिश करी जाती है कि India में cricket's के अलावा भी कई सारी sports होती है, जिसमें हमारे Indian's खिलाड़ियों द्वारा World Championship जीती गई हैं। Cricket player's के अलावा हम किसी दूसरे sports के खिलाड़ी को हम तब ही जानते या पहचानते हैं, जब उस खिलाड़ी के ऊपर को Biopic Film बनती है, वरना cricket player's के अलावा हमें किसी भी sports के खिलाड़ी की कोई परवाह नहीं है। वैसे यह मेरा नहीं Chalo Koi Baat Nahi के इस एपिसोड का मानना है, जिससे मैं पूरी तरह से सहमत हूं। 

कहानी में हम एक पुलिस स्टेशन में Air Rifle Shooter के ‌खिलडी को देखते हैं जिस पर आतंकवादी गिरोह के साथ काम करने का शक किया जाता है। क्योंकि वह Gun (sports में use होने वाला rifle) के साथ पकड़ा जाता है।  ‌वह यह साबित नहीं कर पाता है कि वह एक खिलाड़ी हैं और उन officer's ने तो कभी India Shooting International Federation (ISIF) के बारे में सुना भी नहीं है इसलिए उन्हें लगता है कि वह उन्हें झूठे sports के नाम पर बेवकूफ़ बनाने की कोशिश कर रहा है। वह अपने बैग से अपने Gold Medals निकालकर दिखाने की कोशिश करता हैं लेकिन officer's को लगता है कि वह explosive निकाल रहा है।‌ एक सेकेंड के लिए लगा था कि आज उस खिलाड़ी का आखरी दिन है और ‌वह पुलिस की गोलियों से मरने वाला है। एक और officer आता है जो उन्हें बताता है कि दिल्ली से उस खिलाड़ी को छोड़ने का आदेश आया है। उन officer's को अब भी यही लग रहा था कि वह एक खिलाड़ी नही बल्कि एक आतंकवादी ही है और उसे धमकी देते हैं कि वह आज उनकी पकड़ से छूट गया। लेकिन अगली बार उसे रंगे हाथों पकड़ेगे और सारे News Channel's, सारे अखबार में उसकी फोटो आएगी। यह सुनकर वह खिलाड़ी खुद को मशहूर (Famous) करने का फैसला करता है और ‌टेबल पर पड़ी असली gun उठाकर दोनों officer's पर ताने देता है। Media तुरंत पहुंच जाती है और वह सचमुच में मशहूर हो जाता है लेकिन मशहूर होने के साथ ही उसे मुफ्त में जेल जाने का मौका भी मिलता है।



Sony Liv Chalo Koi baat Nahi Episode 4 "Sports"  Ending

इंडिया में इंग्लिश न बोल पाना एक अपराध ही घोषित कर देना चाहिए क्योंकि इंग्लिश ना बोल पाने से लोगों का कभी कभी इतना मज़ाक उड़ता है कि शर्म को शर्म आ जाए। इसे अपराध घोषित कर देने से कम से कम हर कोई मजबूरी में ही सही पर इंग्लिश सीखेगा तो सही और पब्लिक में खुद को मजाक नही बनाएगा। लेकिन अगर पब्लिक हमारा मज़ाक ना भी उड़ाए तो भी हमें खुद के इंग्लिश न बोलने पाने की वजह से शर्म आती है। India में English language सिर्फ़ एक language नहीं है, यह एक status है जहां Indian's languages= Low Status और English language= High Status के रूप में देखा जाता हैं।

हिन्दी, बंग्ला, उर्दू, मराठी, तमिल या तेलुगु; हमें अपनी खुद की language न आती हो कोई बात नहीं है लेकिन अगर हमें English नहीं आती है तो हमें इससे शर्म आती है। पता नहीं हमारे अंदर यह मानसिकता (mentality) कैसे आई लेकिन यह एकदम ग़लत mentality है।  इस एपिसोड के आखिर में हम यही देखते हैं कि कोई क्रिकेट खिलाड़ी ‌भी अपने खेल में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर के Man of the Match नहीं बनना चाहता है क्योंकि उसकी इंग्लिश अच्छी नहीं है। 

खैर इस एपिसोड की आखरी कहानी में sports में इंग्लिश भाषा उपयोग, इंग्लिश ना बोल पाने का डर और गलत इंग्लिश से होने वाली comedy देखने को मिलती हैं। इस सीरीज का यह एपिसोड अब तक का मेरा favourite हैं लेकिन में उम्मीद करता हूं कि आगे के एपिसोड इससे भी ज्यादा comedy से भरी हो और यह favourite episode की लिस्ट में दूसरे नंबर पर आ जाए।



Watch the trailer for Sony Liv Chalo Koi Baat Nahi.


Previous Post Next Post