पैसा बनाने के 3 आसान कदम

इस रास्ते पर चलते जाओ और बाकी सब समय संभाल लेगा।

दौलत-पैसा बनाना एक ऐसा विषय है जो गरमागरम बहस छेड़ सकता है, जल्दी अमीर बनाने वाली अजीबोगरीब स्कीम को बढ़ावा दे सकता है या लोगों को ऐसे लेन-देन करने के लिए प्रेरित कर सकता है, जिन पर वे शायद कभी विचार ही न करें। लेकिन क्या "पैसे बनाने के लिए तीन सरल कदम" एक भ्रामक अवधारणा है? Answer है नहीं ।


मूल रूप से, समय के साथ धन संचय करने के लिए, आपको केवल तीन काम करने होंगे: (1) पैसा कमाना(Earn), (2) पैसा बचाना(Save), और (3) पैसा लगाना(invest)। यह लेख में हम बारी-बारी से इन प्रत्येक चरणों को देखेंगे।

समय के साथ धन का निर्माण सिर्फ तीन बुनियादी चरणों का पालन करने और उन पर टिके रहने से ही की जा सकती है।

पहला कदम: अपनी बुनियादी जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त पैसा कमाना है, और कुछ अतिरिक्त पैसा बचत (saving) के लिए बचाना है।

दूसरा कदम: अपने खर्च का प्रबंधन करना ताकि आप अपनी बचत को अधिकतम कर सकें।

तीसरा कदम: अपने पैसे को विभिन्न प्रकार की संपत्तियों में निवेश करना ताकि यह लंबी अवधि के लिए उचित रूप से विविध हो।


धन के निर्माण के लिए 3 सरल चरणों को समझना

step 1: पैसा कमाएं 

यह कदम प्राथमिक लग सकता है लेकिन उन लोगों के लिए सबसे मौलिक है जो अभी शुरुआत कर रहे हैं। आपने शायद किसी न किसी charts में यह जरूर देखा होगा कि नियमित रूप से invest की गई छोटी से छोटी राशि समय के साथ compounding से अंततः एक बड़ी राशि बन सकती है। लेकिन वे चार्ट कभी भी इस मूल प्रश्न का उत्तर नहीं देते हैं कि आपको बचत करने के लिए पैसे कैसे मिलते हैं?


पैसा कमाने के दो बुनियादी तरीके हैं: अर्जित आय (earned income) या निष्क्रिय आय (passive income) के माध्यम से । अर्जित आय आपके जीवन यापन के लिए किए गए कार्यों से आती है, जबकि निष्क्रिय आय निवेश (investment) से प्राप्त होती है। जब तक आप निवेश शुरू करने के लिए पर्याप्त धन अर्जित नहीं कर लेते, तब तक आपकी कोई निष्क्रिय आय (passive income) नहीं हो सकती है। यदि आप या तो करियर शुरू करने वाले हैं या करियर में बदलाव पर विचार कर रहे हैं, तो ये प्रश्न आपको यह तय करने में मदद कर सकते हैं कि आप क्या करना चाहते हैं - और आपकी अर्जित आय कहाँ से आने वाली है:


आपको क्या करने में मज़ा आता है? आप बेहतर प्रदर्शन करेंगे, एक लंबे समय तक चलने वाले करियर का निर्माण करेंगे, और कुछ ऐसा करके आर्थिक रूप से सफल होने की अधिक संभावना होगी जो आपकी ख़ुद की पसंद हो और जो आपको सार्थक लगे। आपके द्वारा कौन सा कार्य अच्छे से किया जा सकता है? देखें कि आप क्या अच्छा करते हैं और आप उन प्रतिभाओं का उपयोग जीविकोपार्जन के लिए कैसे कर सकते हैं। कोन सा कार्य आपको अच्छा भुगतान करेगा? आपको जो कार्य करना पसंद करते हैं उसका उपयोग करके अपना करियर बनाने का प्रयास करके देखें। अपने चुने हुए करियर विकल्पों को आगे बढ़ाने के लिए आवश्यक शिक्षा, प्रशिक्षण और अनुभव आवश्यकताओं के बारे में जानें।  


step 2: पैसे बचाएं

यदि आप सब कुछ खर्च कर देते हैं तो केवल पैसा कमाने से आपको धन बनाने में मदद नहीं मिलेगी। धन के निर्माण के लिए अधिक धन अलग रखने के लिए, इन चार चालों पर विचार करें:


कम से कम एक महीने के लिए अपने खर्च को ट्रैक करें। ऐसा करने में आपकी सहायता के लिए आप किसी Apps. का उपयोग कर सकते हैं, लेकिन एक छोटी, पॉकेट नोटबुक भी पर्याप्त हो सकती है। अपने हर खर्च को रिकॉर्ड करें, चाहे वह कितना भी छोटा क्यों न हो; बहुत से लोग महीने के अंत में यह देखकर हैरान हो जातें हैं कि उनका सारा पैसा कहां जाता है। अपने अनचाहे खर्चों को देखें और उन्हें कम करने की कोशिश करें। अपने खर्चों को जरूरतों और चाहतों में विभाजित करें। भोजन, आश्रय और वस्त्र स्पष्ट आवश्यकताएँ हैं। उस सूची में health insurance, Vehicle insurance और Home Loans EMI और वह खर्चे भी जोड़ें यदि अन्य लोग आपकी आय पर निर्भर हैं। कई अन्य खर्चे केवल चाहत ही रहेंगे। लेकिन दोनों categories पर एक कड़ी नजर डालें। हालाँकि आप शायद कुछ ज़रूरतों को पूरी तरह से खत्म कर सकते हैं, जैसे हो सकता है कि आप कपड़ों जैसी कुछ ज़रूरतों पर कहीं ज़रूरत से ज़्यादा तो नहीं ख़र्च कर रहे हों।

बचत का लक्ष्य निर्धारित करें। एक बार जब आपको इस बात का उचित अंदाजा हो जाए कि आप हर महीने कितना पैसा अलग रख सकते हैं, उसके बाद आपको बस उस पर टिके रहने की कोशिश करना। इसका मतलब यह नहीं है कि आपको कंजूस की तरह रहना है या हर समय पैसे बचाने के बारे में सोचते रहना है। 



यदि आप अपने saving target को पूरा कर रहे हैं, तो बेझिझक अपने आप को reward भी दे और समय-समय पर (उचित राशि) खर्च करें। आप बेहतर महसूस करेंगे और course पर बने रहने के लिए motivated होंगे।

बचत को automatic पर set रखें। प्रत्येक महीने एक निर्धारित राशि को बचाने का एक आसान तरीका यह है कि आप अपने बैंक के साथ प्रत्येक पेचेक के एक निश्चित हिस्से को एक अलग saving a/c या investment a/c में automatically transfer करने की व्यवस्था करें। इसी तरह, आप अपने वेतन से automatically पैसे transfer करके अपने retirement के लिए बचत कर सकते हैं। Financial Advisor आमतौर पर सलाह देते हैं कि आप अपने income का कम से कम 10% जरूर save करें।इसे भी ध्यान में रखें: आप अपने लागत में कटौती चाहे कितनी भी करें इससे आपकी बचत में ज्यादा वृद्धि नहीं होगी इसलिए अपनी बचत को बढ़ाने के लिए आपको अपनी आय बढ़ाने के तरीकों पर गौर करना चाहिए।


step 3: पैसा निवेश करें

एक बार जब आप कुछ पैसे अलग रखने में कामयाब हो जाते हैं, तो अगला कदम इसे निवेश करना है ताकि आपका धन समय के साथ बढ़ता रहें।


(हालांकि, निवेश शुरू करने से पहले, सुनिश्चित करें कि आपके पास किसी भी अनपेक्षित वित्तीय आपात स्थिति से निपटने के लिए कुछ पैसा अलग रखा गया है। एक सामान्य सलाह होती है कि आप एक liquid account में कम से कम तीन से छह महीने के खर्चों को कवर करने के लिए पर्याप्त धन होना चाहिए। Investments, risk और संभावित रिटर्न के संदर्भ में भिन्न होते हैं । एक सामान्य नियम के रूप में, वे जितने सुरक्षित होते हैं, उनकी potential return उतनी ही कम होती है, और vice versa, investment जितने risky होते हैं उनका potential return भी उतना ही ज्यादा होता है।



यदि आप विभिन्न प्रकार के निवेशों से परिचित नहीं हैं, तो उन पर लिखे कोई लेख या किताबो पर थोड़ा समय बिताना चाहिए। Market में आपको अनेको प्रकार के investment मिल जाएंगे पर अधिकांश लोग बुनियादी बातों से शुरुआत करना चाहेंगे: Stocks , Bond और Mutual Fund ।


Stocks किसी corporation के share's में स्वामित्व दिलाता हैं। जब आप स्टॉक खरीदते हैं, तो आप उस कंपनी के एक छोटे से हिस्से के मालिक होते हैं और इसके शेयर की कीमत में किसी भी वृद्धि से आपको लाभ होगा , साथ ही साथ कोई भी लाभांश (dividend) जो वह भुगतान करता है। Stocks आम तौर पर Bonds की तुलना में जोखिम भरा माना जाता है, लेकिन स्टॉक में भी variation होते हैं जिनका risk factor हर एक Stocks से भिन्न हो सकते हैं। बांड किसी कंपनी या सरकार के IOUs की तरह होते हैं। जब आप एक बांड खरीदते हैं, तो जारीकर्ता एक निश्चित अवधि के बाद आपके पैसे को ब्याज सहित वापस भुगतान करने का वादा करता है। एक बहुत ही सामान्य नियम के रूप में, बांड को शेयरों की तुलना में कम जोखिम भरा माना जाता है, लेकिन कम संभावित उछाल के साथ। उसी समय, कुछ बांड दूसरों की तुलना में जोखिम भरे होते हैं; बॉन्ड-रेटिंग एजेंसियां उन्हें प्रतिबिंबित करने के लिए ग्रेड प्रदान करती हैं।



म्यूचुअल फंड सिक्योरिटीज का समंदर होता है जिसमें बहुत सारे स्टॉक या बॉन्ड भरे होते हैं-अक्सर यह स्टॉक, बॉन्ड या दोनों का संयोजन होता है। जब आप म्यूचुअल फंड के शेयर खरीदते हैं, तो आपको पूरे समंदर का एक छोटा सा टुकड़ा मिलता है। म्युचुअल फंड में निवेश करना भी risky होता हैं, यह इस बात पर निर्भर करता है कि वे किसमें निवेश करते हैं। शायद शुरुआती Investors के लिए इसमें सबसे महत्वपूर्ण चीज diversification हैं, या कहा जाए तो diversification beginner और Experience दोनों के लिए ही महत्वपूर्ण है। 


सीधे शब्दों में कहें तो आपका लक्ष्य अपने पैसे को विभिन्न प्रकार के निवेशों में फैलाना होना चाहिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि निवेश अलग-अलग समय पर अलग-अलग प्रदर्शन करते हैं। उदाहरण के लिए, यदि शेयर बाजार में गिरावट का सिलसिला चल रहा है, तो बांड अच्छा रिटर्न प्रदान कर सकते हैं। या अगर स्टॉक ए मंदी में है, तो स्टॉक बी तेजी से भाग रहा हो।


म्यूचुअल फंड कुछ अंतर्निहित विविधीकरण (diversification) प्रदान करते हैं क्योंकि वे कई अलग-अलग प्रतिभूतियों(securities) में निवेश करते हैं। और यदि आप स्टॉक फंड और बॉन्ड फंड (या कई सारे स्टॉक फंड और कई सारे बॉन्ड फंड) दोनों में निवेश करते हैं, उदाहरण के लिए, केवल एक या दूसरे में निवेश करने से आप अधिक diversification प्राप्त करेंगे।



विविधीकरण से ही संबंधित एक और अवधारणा है asset allocation । इसमें risk और अन्य कारकों के आधार पर यह तय करना शामिल है कि आप प्रत्येक विशेष परिसंपत्ति श्रेणी में सुरक्षा के मामले में अपने पोर्टफोलियो का कितना प्रतिशत निवेश करना चाहते हैं। एक सामान्य नियम, आप जितने छोटे होंगे यानी आपकी उम्र जितना कम होगा आप उतना ही अधिक risk उठा सकते हैं क्योंकि आपके पास किसी भी नुकसान की भरपाई के लिए अधिक वर्ष होंगा।


क्या मुझे loan चुकाना चाहिए या invest करना चाहिए?

यदि आपके पास high-interest debt है, जैसे कि कई credit card charges, तो आमतौर पर invest करने से पहले इसे चुकाना समझदारी होगी। कुछ investments उतना भुगतान करते हैं जितना क्रेडिट कार्ड चार्ज करते हैं। तो एक बार जब आप अपने कर्ज का भुगतान कर देते हैं, तो उस अतिरिक्त पैसे को save और invest करें। और भविष्य में बकाया ब्याज से बचने के लिए, जब भी संभव हो, हर महीने अपने credit card की शेष राशि का पूरा भुगतान करने का प्रयास करें।


म्युचुअल फंड क्या है और खरीदने के लिए मुझे कितने पैसे की जरूरत है?


म्यूचुअल फंड ऐसी स्कीम हैं जिससे कई लोगों का पैसा इकट्ठे लगाया जाता है. म्यूचुअल फंड में विभिन्न निवेशकों से पैसा इकट्ठा किया जाता है और इस पैसे को share और Bond Market में invest किया जाता है. निवेशक को उसके पैसे के लिए यूनिट आवंटित कर दिए जाते हैं. अब इन यूनिट के अनुपात में शेयर या बॉन्ड खरीदने-बेचने पर होने वाले मुनाफे को म्यूचुअल फंड हाउसेज फंड (यूनिट) shareholders में बांट देते हैं। म्यूचुअल फंड धारकों को यह डिविडेंड या लाभांश फंड पर होने वाले सभी खर्च जैसे AMC (Assets Management Company) charges, admin charges, एजेंट का कमीशन आदि निकाल कर दिया जाता है.



कैसे करें म्यूचुअल फंड में निवेश:

नए investors जो पहली बार म्यूचुअल फंड (Mutual Fund) में निवेश करने जा रहे हैं उन्हें ये जानना बहुत जरूरी है कि वो किस मकसद से invest कर रहें और कितने वर्षों के लिए करने वाले हैं ताकि उन्हें एक अच्छा रिटर्न मिल सके. Mutual Fund, Bank FD से कई बेहतर और सुरक्षित होता है। SIP के जरिए म्यूचुअल फंड में निवेश करना चाहिए जिसके जरिए आप 100 रुपये से 500 रुपये तक की राशि से शुरुआत कर सकते हैं. SIP के जरिए म्यूचुअल फंड में निवेश करने के कई तरीके होते हैं, जिसके जरिए आप अपना Mutual Fund Portfolio बना सकते हैं. म्युचुअल फंड में आप लंबी अवधि के लिए निवेश कर अच्छा return कमा सकते हैं. म्यूचुअल फंड में निवेश आप दो तरीके से कर सकते हैं एक तो SIP जिसे सिस्टेमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान कहते हैं और दूसरा है एकमुश्त (Lump sum).


हालांकि, बाजार के risk का असर mutual funds पर भी होता है. लेकिन फिर भी लंबी अवधि के निवेशकों को इसमें निवेश से कंपाउंडिंग का फायदा काफी अच्छा होता है. अपने पोर्टफोलियो (Portfolio) में म्यूचुअल फंड जोड़ने से पहले ये जरूर तय करें कि आपका लक्ष्य क्या है और आप किस लिए निवेश करना चाहते हैं.

 


Exchange Traded Fund (ETF) क्या है?

एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड म्यूचुअल फंड की तरह निवेश का समंदर हैं। एक महत्वपूर्ण अंतर यह है कि उनके शेयरों का स्टॉक एक्सचेंजों पर कारोबार होता है (बजाय किसी विशेष फंड कंपनी के माध्यम से खरीदा और बेचा जाता है)। वे कभी-कभी कम शुल्क भी लेते हैं। आप उन्हें ब्रोकरेज फर्म के माध्यम से स्टॉक और बॉन्ड के साथ भी खरीद सकते हैं।


निष्कर्ष:

तुरंत धनवान बनाने वाली योजनाएं कभी-कभी आकर्षक हो सकती हैं, धन बनाने का सही तरीका नियमित बचत और निवेश के माध्यम से होता है - और धैर्यपूर्वक उस धन को समय के साथ बढ़ने देना। छोटी शुरुआत करना ठीक है। महत्वपूर्ण बात शुरू करना है।




Previous Post Next Post