8 Simple Ways to Increase Cibil score | Cibil Score Badhane ke 8 Tarike

 अगर आप Home Loan लेना चाहते हैं, Car Loan या Education Loan या चाहे आप एक नए क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई कर रहे हैं तो सबसे पहले आपका CIBIL SCORE चेक किया जाता है। CIBIL SCORE जितना ज्यादा उतना अच्छा होता है और जितना कम उतना ही खराब होता हैं।


CIBIL: Credit Information Bureau India Limited.


CIBIL SCORE 300 से 900 के बीच होता है। अधिक CIBIL SCORE अच्छा होता है लेकिन आम तौर पर 740+ CIBIL SCORE अच्छा माना जाता है और अगर आपका CIBIL SCORE 800+ है तो भविष्य में आपको लोन मिलने की उच्च संभावना होती है।


इसलिए अगर आपका CIBIL स्कोर 800 या 740 से कम है तो क्या करें? अगर आपका सिबिल स्कोर कम है तो आपको इस आर्टिकल में बहुत उपयोगी जानकारी मिलने वाली है।

मैं आपको 8 तरीके बताऊंगा जिससे आप अपना सिबिल स्कोर सुधार सकते हैं और यदि आप इन तरीकों का उपयोग करते हैं तो आप हमेशा अपना सिबिल स्कोर 800+ देखेंगे।



क्रेडिट कार्ड से CIBIL SCORE पर प्रभाव

क्रेडिट कार्ड आपके सिबिल स्कोर को सबसे ज्यादा प्रभावित करता है। ज्यादातर लोग क्रेडिट कार्ड में यह गलती करते हैं कि वे सोचते हैं कि यदि आप समय पर बिलों का भुगतान कर रहे हैं तो आपका Cibil Score अधिक होगा।

लेकिन आपका सिबिल स्कोर credit utilisation % से भी प्रभावित होता है। यानि अगर आपका credit limit ₹ 1Lakh है और आप हर महीने 80-90 हज़ार खर्च कर देते हैं तो इससे भी आपका सिबिल स्कोर प्रभावित होता है।

इसका मतलब है कि आप 80 से 90% की credit limit का उपयोग रहें है और यह सब कुछ क्रेडिट ब्यूरो को सूचित किया जाता है। यह रिपोर्ट दर्शाती है कि आप उधारी में जिंदगी जी रहे हैं और आप क्रेडिट कार्ड पर अधिक निर्भर हो चुके हैं; और यह आपके सिबिल स्कोर को बहुत प्रभावित करता है।

जब भी आप नया लोन लेने जाएंगे सबसे पहले Bank आपके सिबिल स्कोर की जांच करते हैं और अगर उन्हें कि आप क्रेडिट कार्ड पर बहुत निर्भर हैं और उधारी में जिंदगी जी रहे हैं तो इससे आपको नया लोन मिलने में दिक्कतें आ सकती हैं।



8 Ways to Increase CIBIL SCORE

  1. Credit Card Utilisation
  2. Increase Credit Limit
  3. Old Credit Card Vs New Credit Card
  4. Pay On Time 
  5. Don't Apply for Multiple Credit Cards
  6. Clear Loan Statement History
  7. Take Easy Loan & Pay ASAP
  8. Don't Check Your CIBIL SCORE




Credit Card Utilisation

Debt-to-Credit Ratio: इसे credit utilisation के रूप में भी जाना जाता है , यह अनुपात आपके उपलब्ध क्रेडिट के संबंध में आपके क्रेडिट कार्ड पर बकाया ऋण (outstanding debt) को मापता है- इसका मापन करता है कि आप अपने credit card पर अपने credit limit के कितने करीब हैं। आपके क्रेडिट उपयोग का कारक आपके क्रेडिट स्कोर का 30% है। यदि यह 30% से अधिक है तो इस अनुपात आपके क्रेडिट स्कोर को नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।


आपको हमेशा अपने क्रेडिट कार्ड से खर्चे को credit limit से 30% या कम रखनी चाहिए। यानी अगर आपका credit limit ₹ 1 लाख है तो आपको अपने क्रेडिट कार्ड से सिर्फ ₹ 30,000 या उससे कम ही खर्च करने चाहिए। लेकिन आप ₹ 50,000 खर्च कर रहे हैं तो इससे आपके credit ratings खराब हो सकती है। आपके खर्चे 30% से ऊपर है तो आपका आपका सिबिल स्कोर प्रभावित हो सकता है। अगर आपका क्रेडिट कार्ड से खर्चा 30% से ज्यादा हैं तो इसमें आप Banks से अपने क्रेडिट कार्ड के Credit Limit को बढ़ाने के लिए अनुरोध कर सकते हैं। आम तौर पर, बैंक क्रेडिट कार्ड की सीमा आसानी से बढ़ा देते हैं क्योंकि आप अक्सर क्रेडिट कार्ड का उपयोग कर रहे होते हैं।



Increase Credit Limit

अगर आपके credit limit 1 लाख से 2 लाख हो जाती है तो इससे आपको अपना CIBIL SCORE सुधार करने में आसानी होगी।

पहले आप 50000 उपयोग कर रहे थे वह credit limit का 50% था लेकिन आपके नए credit limit के अनुसार यह अब सिर्फ 25% हैं, जो 30% से कम है और यह आपके CIBIL SCORE के लिए अच्छा है।


Old Credit Card Vs New Credit Card 

आपकी credit history जितनी पुरानी होगी आपको लोन मिलने की संभावना उतनी ही ज्यादा होगी। इसलिए अगर आप एक नया क्रेडिट कार्ड लेना चाहते हैं और पुराने क्रेडिट कार्ड को बंद करवाने के बारे में सोच रहे हैं तो यह सिर्फ तभी करें जब आपसे क्रेडिट के लिए ज्यादा चार्ज किया जा रहा हो या आप नए क्रेडिट कार्ड से एक नया क्रेडिट हिस्ट्री बनाना चाहते हैं। क्योंकि अगर आपके पुराने क्रेडिट कार्ड की हिस्ट्री अच्छी है तो आपको उसे बंद नहीं करवाना चाहिए क्योंकि इससे आपके क्रेडिट कार्ड की हिस्ट्री समाप्त हो जाएगी और आपको अपनी क्रेडिट हिस्ट्री बनाने के लिए शुरुआत में शुरू करना पड़ेगा। 



Pay On Time 

सबसे पहले तो क्रेडिट कार्ड का उपयोग तभी करें जब आपके डेबिट कार्ड में या आपके बैंक अकाउंट में उतने पैसे मौजूद हैं। क्योंकि अगर किसी वजह से आप क्रेडिट कार्ड कि पेमेंट समय पर नहीं कर पाते हैं तो इससे आपकी क्रेडिट हिस्ट्री तो खराब होती ही हैं; जो आपके CIBIL SCORE को प्रभावित करता है साथ ही इससे आपको High interest rate पर अपने क्रेडिट कार्ड के लोन को चुकाना पड़ता है। इसलिए अपने क्रेडिट कार्ड के बिल का भुगतान नियमित समय पर करते रहे। कभी क्रेडिट कार्ड के भूगतान में देरी ना करें और सभी खर्चों का भूगतान हमेशा full payment करें; कुछ भी राशि बकाया ना रखें इससे आपका क्रेडिट हिस्ट्री बेहतर बनता है जो आपके CIBIL SCORE को बढ़ाने में सहायक होता है। 


Important: अगर किसी वजह से आप अपने क्रेडिट कार्ड के बिल का पेमेंट्स नहीं कर पाते हैं और इसे पेमेंट करने में 6 महीने की देरी कर देते हैं तो इससे भविष्य में आपको 6 साल तक कोई भी लोन लेने में मुश्किले आ सकती है।



Don't Apply for Multiple Credit Cards.

एक से अधिक क्रेडिट कार्ड का उपयोग करने से बचना चाहिए। क्रेडिट कार्ड के पेमेंट नियमित रूप से समय पर देने से आपका क्रेडिट हिस्ट्री बेहतर बनता है। इसलिए उन लोगों के लिए CIBIL SCORE बढ़ाना मुश्किल हो जाता है जिनके पास एक से अधिक क्रेडिट कार्ड हैं जिन्हें मेनेज करना मुश्किल हो जाता है, जिससे आपके सिबिल स्कोर पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता हैं। लेकिन आजकल मार्केट में बहुत सारे ऐसे Mobile Apps (CRED) आ चुके हैं जिनका उपयोग कर के आप अपने Multiple Credit Card को एक ही ऐप्स में मेनेज कर सकते हैं।


Important: जब आपका क्रेडिट हिस्ट्री काफ़ी कम है तो Multiple Credit Cards के लिए अप्लाई करने से आपका Credit Score नीचे जा सकता हैं।



Loan Statement History

कई मामलों में लोग अपना लोन नहीं चुका पाते हैं या वे निर्धारित अवधि से पहले अपने लोन का पूरा भुगतान करने में विफल रहते हैं। अंतत: उन्हें बैंक के साथ लोन का निपटान करना पड़ता है। यह Cibil Score के लिए नकारात्मक सूचक के रूप में काम करता है। वित्तीय संस्थान ऐसे उधारकर्ताओं को लोन देने से स्पष्ट रूप से अस्वीकार करते हैं। इसलिए जब भी आप कोई लोन लेते हैं उसे निर्धारित अवधि में चुकाने की कोशिश करे और हमेशा अपना Loan statement History साफ़ रखें वरना भविष्य में आपको नए लोन लेने में मुश्किले आ सकती है।



Take Easy Loan & Pay ASAP.

आपने कितनी बार लोन लिया है, कितनी राशि का लोन लिया है और कितने अनुशासन के साथ आप लोन का भूगतान करते हैं। इन सब चीजों का ब्योरा क्रेडिट कंपनियों के पास होता है। जब भी आप कोई नया लोन लेते हैं तो वह आपकी क्रेडिट हिस्ट्री देखते हैं कि आपने कितनी बार लोन लिया है और कितने अनुशासन से अपने लोन की रकम चुकाई है। लोन‌ के भूगतान समय पर करने या ना करने से। आपका Credit Score सबसे ज्यादा प्रभावित होता है। इसलिए आपकों अपना क्रेडिट स्कोर बढ़ाने के लिए आसान लोन लेने लीजिए और उस लोन को समय पर चुकाने की कोशिश करे क्योंकि जितना जल्दी आप अपना लोन चुकाते हैं, यह आपके CIBIL SCORE के लिए उतना अच्छा होता है।


Example: कोई चीज 12 महीने की EMI पर मिल रही है लेकिन आप उसे 3 महीने के EMI पर पेमेंट्स सकते हैं तो आपको अपना लोन तुरंत चुकाने के लिए 3 महीने के EMI पर पेमेंट्स करना चाहिए।


Don't Check Your CIBIL SCORE

CIBIL SCORE जानने के लिए बेशक आपको अपना सिबिल स्कोर चेक करना पड़ेगा। लेकिन बार-बार अपना cibil score चेक करने से बचना चाहिए। बार बार सिबिल स्कोर चेक करने से भी आपका CIBIL SCORE प्रभावित होता है।



Conclusion:

समय पर अपने लोन का भुगतान करें। समय पर और नियमित रूप से अपने क्रेडिट कार्ड का भुगतान करें। आपके CIBIL SCORE को प्रभावित करने वाले बहुत कम कारक होते है, इसलिए मुझे उम्मीद है कि ऊपर दिए गए कुछ चीजों पर ध्यान देने पर आसानी से आप अपना CIBIL SCORE बढ़ा सकते हैं।