Analysis Dividend Stocks with Dividend Yield | Dividend Yield से dividend stocks की analysis करें।

एक high dividend yield देने वाले stock का मतलब हमेशा यह नहीं होता है कि यह एक अच्छे निवेश का संकेतक है। निवेशकों को थोड़ा गहराई से देखने और कुछ अन्य कारकों (factors) पर विचार करने की जरूरत है।

Dividend Yield दो आंकड़ों का अनुपात है: स्टॉक की कीमत और पिछले साल के दौरान दिया गया कुल डिविडेंड। 

इनमें से किसी एक में भी परिवर्तन के परिणामस्वरूप कम या ज्यादा dividend प्राप्त हो सकता है। उदाहरण के लिए, कभी-कभी high dividend yield स्टॉक की कीमत में गिरावट का परिणाम होता है।

Analysis Dividend Stocks with Dividend Yield
मान लीजिए ₹ 100 की कीमत वाला कोई स्टॉक हैं। इस स्टॉक ने पिछले वर्ष की तुलना में dividend में कुल ₹ 2 का भुगतान किया है यानी कि dividend yield 2% हैं। अब, क्या होगा अगर उस शेयर की कीमत 50 रूपए गिर जाए? इस गिरावट की वजह से dividend yield 8% तक बढ़ जाएगी।
Dividend-stocks-analysis


यह उदाहरण stock के मूल्य में गिरावट से उसके dividend yield में वृद्धि करता है। यथार्थवादी गिरावट का प्रभाव कम होगा। इस मामले में, stock के प्राइस में गिरावट का मतलब यह नहीं है कि स्टॉक अच्छा नहीं है। यदि ऐसा स्टॉक एक high dividend yield प्रदान करता है, और अभी भी fundamentally मजबूत है, तो इसकी कम कीमत वास्तव में इसे एक अच्छा investment बना सकता है।


इस तरह का स्टॉक का एक वॉच लिस्ट बनाकर रखना चाहिए और जब भी मौका मिले इन्हें अपने पोर्टफोलियो में जोड़ लेना चाहिए। यह स्थिति तब उत्पन्न हो सकती है जब उस स्टॉक के मूल्य में हाल ही में गिरावट आई हो। 

या, यह शेयर बाजार में मंदी के कारण हो सकता है, जिससे इस स्टॉक में भी गिरावट आ गई है। अब, आइए समीकरण के दूसरे पक्ष को देखें।
 
जब कोई कंपनी अपने quarterly dividend की घोषणा करती है, तो यह पिछली quarter से ज्यादा हो सकता है, समान रह सकता है, या नीचे भी जा सकता है।

यदि लाभांश (dividend) अधिक है, तो इससे dividend yield में वृद्धि होगी। हालांकि, अगर dividend कम हो जाता है, तो dividend yield भी कम हो जाएगा। लाभांश में कटौती अक्सर किसी कंपनी के fundamental के लिए एक बुरा संकेत होता है। समीकरण के दोनों ओर परिवर्तन, चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक, dividend yield में उतार-चढ़ाव का कारण बन सकता है। 
 
इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि एक निवेशक सिर्फ किसी कंपनी के dividend yield को देखकर निवेश करने की योजना ना बनाएं। उस स्टॉक के dividend yield से ज्यादा उस स्टॉक के कंपनी की गहराई से रिसर्च करें। उसके बाद ही invest करने की योजना बनाएं। यह सुनिश्चित करें कि आपके निवेश योजना में सिर्फ dividend yield आपके stock analysis का एकमात्र आधार नहीं है।